akbarpurallahabadArrahbankaBhagalpurBiharCrimeDelhiEntertainmentfaizabadGayagodda jharkhandgondaJehanabadjharkhandkatiharkishanganjLife TVLifestyleLiteraturelucknowmadhehpuramotihariMuzaffarpurNalandananitalNationalNewsPatnaPoliticspurniaranchi jharkhandsitapurSiwanSportssultanpursupualtandautranchalUttar Pradeshvaranasiwest bengalyatyat thana

ABVP ने विश्वविद्यालय में शैक्षणिक अराजकता और भ्रष्टाचार के खिलाफ किया “छात्र गर्जना” के तहत प्रदर्शन!

भागलपुर बिहार

आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के द्वारा तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय की शैक्षणिक अराजकता व भ्रष्टाचार के खिलाफ विश्वविद्यालय संयोजक संजय झा के नेतृत्व में विश्वविद्यालय प्रर्दशन “छात्र गर्जना” किया गया। कार्यकर्ता टीएनबी कालेज से सैकड़ों की संख्या में नारा लगाते हुए मारवाड़ी कॉलेज होते हुए विश्वविद्यालय प्रशासनिक भवन पहुंच कर प्रर्दशन करने बैठ गये। अभाविप के विश्वविद्यालय संयोजक संजय झा ने कहा कि तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय का अपना एक गौरवशाली इतिहास रहा है। राष्ट्र कवि रामधारी सिंह दिनकर कभी यहां के कुलपति हुवा करते थे लेकिन आज यह विश्वविद्यालय भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया है। प्रभारी कुलपति विश्वविद्यालय से गायब रहते हैं विश्वविद्यालय का सारा काम ठप है । प्रभारी कुलपति के उपर भी भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप है। कालेज व स्नातकोत्तर विभाग में मूलभूत सुविधाओं का घोर अभाव है, छात्रों को 6-6 महीने तक मूल प्रमाणपत्र के लिए दौरना पड़ता है, प्रयोगशाला व पुस्तकालय की स्थिति दयनीय है,शिक्षक और कर्मचारियों की घोर कमी है, सेमिनार , संगोष्ठी, खेल और सांस्कृतिक कार्यक्रम तो होते ही नहीं, छात्रावास की स्थिति दयनीय है,प्रवेश ,परीक्षा और परिणाम भी समय पर नहीं होते, परीक्षा विभाग में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार होते हैं,दिक्षांत समारोह के नाम पर छात्रों से लिए गए पैसे की वापसी अभी तक नहीं हुई है। विश्वविद्यालय अतिथि आवास को विवाह भवन बनाकर पैसे की उगाही की जा रही है और कारवाई के नाम पर केवल जांच समिति बना दी जाती है, विश्वविद्यालय की जमीन को अधिकारी भूमाफिया से मिलकर बेचने का प्रयास कर रहे हैं।छात्रहित विश्वविद्यालय की प्राथमिकता में है ही नहीं। उन्होंने तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय में भी कापी खरीद बिक्री, क़िताब खरीद,रूसा फंड, पुरानी गाड़ी खरीद, भैरवा तालाब टेंडर, छात्र संघ के पैसे, शिक्षक नियुक्ति व तबादला, निर्माण कार्य,बीएड और डिग्री कालेज की मान्यता आदि में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार होने की बात कहते हुए इनकी जांच स्पेशल विजिलेंस टीम से कराने की मांग की। वहीं प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य आशुतोष सिंह तोमर, कुणाल पांडे व रोहित राज ने कहा कि आज विश्वविद्यालय के साथ साथ सभी महाविद्यालयों में स्थाई कुलपति और प्राचार्य की आवश्यकता है। बार बार प्रभारी और उत्तरप्रदेश के कुलपति की नियुक्ति से यह स्पष्ट हो चुका है कि भ्रष्टाचार का सारा खेल राजभवन से चल रहा है।जरूरत पड़ने पर राजभवन और सरकार के खिलाफ भी आंदोलन किया जाएगा। छात्रों की समस्या समाधान व भ्रष्टाचार के खिलाफ अभाविप का आंदोलन लगातार जारी रहेगा। अभाविप कार्यकर्ताओं ने प्रर्दशन स्थल पर पहुंचे DSW को कुलपति के नाम 36 सुत्री मांग भी सौंपा। मौके पर अभाविप के जिला संयोजक पंकज यादव, छात्रसंघ महासचिव अंकुश राज, बांका के जिला संयोजक नितीश प्रशांत, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रोहित राज, हैप्पी आनंद,नगर मंत्री कपिश शर्मा,अनुज चौरसिया, पितांबर सिंह,निहार सिंह, रुद्र प्रताप, आदित्य राज, सौरभ जैन, दिव्यांशु झा, हर्ष कुमार,सौरव शर्मा,मधुर मिलन नायक सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button