akbarpurallahabadArrahbankaBhagalpurBiharCrimeDelhiEntertainmentfaizabadGayagodda jharkhandgondaJehanabadjharkhandkatiharkishanganjLife TVLifestyleLiteraturelucknowmadhehpuramotihariMuzaffarpurNalandananitalNationalNewsPatnaPoliticspurniaranchi jharkhandsitapurSiwanSportssultanpursupualtandautranchalUttar Pradeshvaranasiwest bengalyatyat thana

मात्र गोष्ठी एवं रूप सज्जा प्रतियोगिता आयोजित


मातृ गोष्ठी एवं रूप सज्जा प्रतियोगिता आयोजित
दिनांक 23 दिसंबर 2021 दिन गुरुवार को पूरणमल सावित्री देवी बाजोरिया सरस्वती शिशु मंदिर नरगा कोठी चंपानगर भागलपुर में आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर कक्षा अरुण से पंचम तक के भैया वाहनों की मात्रृ गोष्ठी एवं रूप सज्जा प्रतियोगिता राकेश सलारपुरिया सभागार में आयोजित हुई। कार्यक्रम का प्रारंभ अभिभाविका रश्मि रेनू, विद्यालय के प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक, शिशु मंदिर के प्रभारी प्रधानाचार्य जितेंद्र प्रसाद एवं विद्यालय के उप प्रधानाचार्य अशोक मिश्र द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। भैया बहनों ने रूप सज्जा प्रतियोगिता में अपनी प्रतिभा को रंगमंच पर प्रस्तुत किया। भैया/बहनों ने विभिन्न वेशभूषा में अपनी अपनी प्रस्तुति दी । कक्षा अरुण से प्रथम तक के भैया बहनों ने फल, फूल ,सब्जी के रूप में आम, पपीता, बैगन ,सेब ,नारंगी ,गुलाब, कमल ,सूर्यमुखी ,इत्यादि बनकर अपनी प्रतिभा दिखाई। कक्षा द्वितीय से पंचम तक के भैया बहनों ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जैसे यूट्यूब, व्हाट्स अप,कैमरा ,रानी लक्ष्मीबाई, विवेकानंद ,बॉर्डर के सैनिक ,इत्यादि अनेक प्रतिभा के रूप में अपने आप को प्रदर्शित किया। साथ ही अभिभाविकाओं के बीच म्यूजिकल चेयर और गुब्बारा दौड़ की प्रतियोगिता रखी गई। म्यूजिकल चेयर में प्रथम स्थान सरिता कुमारी, द्वितीय स्थान पलक प्रज्ञा एवं तृतीय स्थान रश्मि रेनू ने प्राप्त किया वहीं गुब्बारा दौड़ में प्रथम स्थान प्रियंका कुमारी, द्वितीय स्थान शिल्पी कुमारी एवं तृतीय स्थान रागिनी कुमारी ने प्राप्त किया। स्थान प्राप्त करने वाले अभिभाविकाओं को मंच पर पुरस्कृत किया गया।
मंच संचालन करते हुए मनोज तिवारी ने माताओं को शिशुओं के आहार एवं दैनिक व्यवहार के बारे में बताया एवं शिशु विकास पर चर्चा की और विद्यालय में होने वाले गतिविधि के बारे में अवगत कराया।
विद्यालय के प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक ने भैया बहन के माताओं के समक्ष चर्चा के रूप में संस्कार पक्ष में प्रतिदिन प्रणाम ,पूजा-पाठ, स्वच्छ वेश पहनाकर भेजने के विषय में कहा। उन्होंने कहा कि विद्यालय में बच्चों को प्रतिदिन किए गए अध्ययन अध्यापन का अवलोकन मां स्वयं करें। बच्चों को संस्कारवान बनाने में माताओं की सहभागिता अहम भूमिका होती है। बच्चों के विकास के लिए परिवार व विद्यालय का सामंजस्य आवश्यक है।
प्रभारी प्रधानाचार्य जितेंद्र प्रसाद ने कहा कि समय-समय पर मात्रृ गोष्टी बालक के विकास के लिए आवश्यक है क्योंकि संस्कार एवं हमारी संस्कृति के अनुसार मां बालक की प्रथम गुरु होती है। मां अपने बालक को लव कुश ,ध्रुव ,प्रहलाद ,सीता ,सावित्री ,दुर्गा इत्यादि जैसे गुण विकसित कर राष्ट्रभक्त और कर्तव्यनिष्ठ का पाठ पढ़ा सकती है। समाज में अनेक बुराइयों का समाप्त करने का संकल्प बच्चों को मां से मिलते हैं। बच्चों के सर्वांगीण विकास में माताओं का सहभागिता मिलता रहे यही आशा करता हूं।
इस अवसर पर प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक, प्रभारी प्रधानाचार्य जितेंद्र प्रसाद, उप प्रधानाचार्य अशोक कुमार मिश्र, मनोज तिवारी, शशि भूषण मिश्र, अभिजीत आचार्य, अमर ज्योति ,सुबोध झा, सुबोध ठाकुर, शशिकांत गुप्ता, गोपाल प्रसाद सिंह, उपेंद्र प्रसाद साह, विनय शुक्ला,आज की कार्यक्रम की अध्यक्षता रश्मि रेनू, अंजू रानी ,सुप्रिया कुमारी ,ललिता झा, कविता पाठक उपस्थित थे।
मीडिया प्रभारी
शशि भूषण मिश्र

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button