akbarpurallahabadArrahbankaBhagalpurBiharCrimeDelhiEntertainmentfaizabadGayagodda jharkhandgondaJehanabadjharkhandkatiharkishanganjLife TVLifestyleLiteraturelucknowmadhehpuramotihariMuzaffarpurNalandananitalNationalNewsPatnaPoliticspurniaranchi jharkhandsitapurSiwanSportssultanpursupualtandautranchalUttar Pradeshvaranasiwest bengalyatyat thana

भागलपुर के युवाओं द्वारा स्वचालित दक्षा युवा फाउंडेशन ने ग्लोबल शेपर्स, डसेलडॉर्फ, जर्मनी के साथ एक परियोजना, “वसुधैव कुटुम्बकम – विश्व एक परिवार है” (प्रोजेक्ट वीके) एक नि: स्वार्थ पहल की थी, 2 महीनों पहले ।

भागलपुर बिहार

इस परियोजना का पहला चरण पिछले ही हफ्ते समाप्त हुआ है, जोकि काफी ही सफल रहा। पूरे दो महीने चला ये कार्यक्रम सभी के लिए खुला था और नि:शुल्क था । इसकी सफलता को देखते हुए नव वर्ष में नई चरण की शुरुआत होगी, जो की पहले चरण से भी बड़ी होगी । इस प्रोजेक्ट के तहत कोरोना काल में हुई मानसिक छटी को कुछ कम करना, एवम लोगो को साथ में लाने का काम हम कर रहे है ।

स्वयंसेवकों को मनोवैज्ञानिक प्राथमिक चिकित्सा प्रदान करने के लिए समग्र कल्याण के आसपास के विषयों में दो महीने से अधिक समय तक प्रशिक्षित/उन्मुख किया गया था। यह परियोजना दो महीनों की खुशी और समग्र स्वास्थ्य कार्यक्रम प्रदान करती है और इसका मुख्य उद्देश्य है निम्नलिखित अनुभवों को बेहतर रूप से प्रदान करना :

१) निर्णय के बिना सुना जाना (non judgemental safe space)
2) सक्रिय हो जाओ और बेहतर महसूस करो (sensitisation)
3) मानसिक स्वास्थ्य के बारे में शिक्षित हों समाज तक पहुंचने और सभी के लिए समग्र स्वास्थ्य और खुशी सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध करना। (mental wellness and wellbeing)

प्रोजेक्ट वीके के अनेक उद्देश्यों में से एक है विदेशों में रहने वाले भारतीयों को जुटाना है, जो तार्किक कारणों से भारत को अग्रिम पंक्ति की मदद नहीं दे सकते थे, लेकिन उन तक पहुंचने की ललक थी। दक्ष के तरफ से संथापक श्रेयस बाजोरिया कहते है की हमने करीब १५०० लोगो को, कई कार्यशालो के द्वारा इस मुहिम में लाने की कोशिश की है ।

दक्षा युवा फाउंडेशन के सदस्य वीके के सहयोग से मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता फैलाने में निरंतर शामिल हैं। लॉन्च होने के २.5 महीनों के भीतर, इस परियोजना को हमारे एक महीने के कार्यक्रम के लिए 60+ से अधिक पंजीकरण प्राप्त हुए हैं और हमारे पास कई समानांतर सत्र चल रहे हैं। यह कार्यक्रम अगले तीन महीनों के लिए सभी के लिए नि:शुल्क उपलब्ध है, एवम अब ये अन्य कई संस्थानों के साथ काम करेंगे । कार्यक्रम, जर्मनी के शहर डसेलडॉर्फ़ से भारतीय नागरिक, हर्षिता कॉल एवम उनके ग्लोबल शेपर्स के साथी, और मनोविज्ञानिक साक्षी मध्यान और उनकी संस्थान , मंध्यान केयर, पुणे से सुचालित है, भागलपुर स्तिथ दक्ष युवा एवम अन्य संस्थानों द्वारा स्वचालित है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button