BhagalpurBiharNationalNewsPatna

जानते थे और सुनते थे कि राजनीति काली स्याही है लेकिन आने के बाद देखा तो समझ में आया कि यह दरिंदगी है,इससे बच के निकल जाना आसान है लेकिन इसमें रहकर सुधार करना कठिन, और यह काम संघ के स्वयंसेवक, विचार परिवार से आने वाले लोगों का है।


देश की जनता हमारी ओर इसी निगाह से आशा और विश्वास के साथ देख रही है।

संघ के लोग राजनीति में आते हैं,संघ का काम सिर्फ सत्ता तक पहुंचना नहीं,व्यवहारिकता के नाम पर फिसलना नहीं। संघ का विचार से मूल्य से पहचान है।
1963 के उपचुनाव में जातीय समीकरण और विरासत पक्ष में होने के बावजूद दीनदयाल जी चुनाव हार गए थे,क्योंकि उनके लिए जातिवाद की जीत जनसंघ की हार थी, विचारधारा की हार थी।
वर्तमान समय में नरेंद्र मोदी जी मूल्य आधारित बातें को अमल करते हुए राजनीति में परिवर्तन लाने के लिए प्रयासरत है।

यह बातें कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए संघ विचारक राज्यसभा सांसद डॉ राकेश सिन्हा ने कही।
उन्होंने कहा कि मैं डॉक्टर हेडगेवार जी पुस्तक लिखा और उस समय से मेरे मन में भाव आया यदि मैं फैसला तो सिर्फ मैं नहीं फिसलूंगा बल्कि संग फीस लेगा इसलिए हमें अपने दायित्व का बोध होना आवश्यक है।

ज्ञात हो कि प्रो सिन्हा एक दिवसीय दौरे पर भागलपुर आए हुए थे, निजी कार्यक्रम में सम्मिलित होने के बाद वो पार्टी के वाणिज्य मंच के जिला संयोजक शरद सालारपुरिया के आवास पर कार्यकर्ताओं के साथ अनौपचारिक बैठक के दौरान मुलाकात की एवं कई मुद्दों पर लोगों से बातचीत किया।

मौके पर भाजपा जिला अध्यक्ष रोहित पाण्डेय, पूर्व जिला अध्यक्ष नभय चौधरी, वरिष्ठसमाजसेवी लक्ष्मीनारायणडोकानिया,महामंत्री देवव्रत घोष, जिला उपाध्यक्ष रोशन सिंह, जिला मंत्री प्रणव दास, मनीष दास, जिला मीडिया प्रभारी इंदुभूषण झा, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य संजीव सिंह, रूबी दास, बंटी यादव, महिला मोर्चा जिला अध्यक्ष श्वेता सिंह, उपाध्यक्ष बबीता मिश्रा,विनोद सिन्हा,आशीष सिन्हा, पंकज सिंह,नमन मिश्रा,नीरज शुक्ला, संजीव मिश्रा, टिंकू ओझा, संदीप शर्मा सहित दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

भागलपुर बिहार

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button