News

गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हुवा डॉ सुमन सोनी का नाम

डॉ सुमन सोनी ने अपनी कड़ी मेहनत व अटूट लगन से साहित्यिक दुनियां में भी अपना नाम गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करवाया । अपनी रचना के माध्यम से सीरियल no 15 पे डॉ सुमन सोनी का नाम अंकित हुवा । इतनी बड़ी उपलब्धि अंतरराष्ट्रीय काव्य प्रेमी मंच के बेनर तले काव्य पाठ के दौरान मिला। ज्ञात हो कि डॉ सुमन सोनी अपने दिनचर्ये का एक एक पल के समय को बखूवी जीती है । धार्मिक प्रव्रीति रहने के कारण इनका 1 से डेढ़ घंटा पूजा ,पाढ़ ईश्वर की आराधना में बीतता है, सरकारी शिक्षिका रहने से इनका 9 से 4 विद्यालय में बच्चो के साथ समय गुजरता है,फिर घर के कार्यों ,बागवानी,पशु,पक्षी की सेवा, सामाजिक कार्य , समाज सेवा में समय बीतता है, इसके बाबजूद डॉ सुमन सोनी का लेखनी में भी काभी रुचि रखती है और रात में जब सारे कार्यो को अच्छे से निष्पादित कर लेती है तब डॉ सुमन कविताएं,लेख,गज़ल, संस्मरण, कहानियां लिखती पढ़ती रहती है।
समय को पकड़ना कोई डॉ सुमन सोनी से सीखे।समय के सदुपयोग का उपयोग कर के ही डॉ सुमन आज यहां तक पहुँच पाई है। डॉ सुमन
अपने सभी साथियों का आभार प्रकट करती है। और कहती है कि ये उपलब्धि मुझे
गुरुदेव की कृपा, माता पिता के आशीर्वाद व समाज का साथ, स्नेह और आशीर्वाद से ही मिला । डॉ सुमन सोनी कहती है की ये खुशी को साझा करते हुए उनको बहुत खुशी हो रही है। और कहते हैं ना कि खुशियां अपनों के साथ बांटने से बढ़ती है।
19 दिसंबर, 2020 से 22 दिसंबर, 2020 को “अंतरराष्ट्रीय काव्य प्रेमी मंच” पर विभिन्न क्षेत्रों में प्रथम भारतीय महिलाओं के सम्मान में काव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया था और तत्पश्चात, काव्य संग्रह तैयार किया गया। सूचित करते हुए हर्ष है कि उस काव्य संग्रह को विश्व कीर्तिमान प्राप्त हुआ है।
इस विश्व कीर्तिमान का श्रेय आप सभी को जाता है, आपकी प्रतिभागिता से ही कार्यक्रम एवं काव्य संग्रह सम्भव हो सका। “पहली महिला”
कार्यक्रम के
डॉ सुमन धन्यवाद ज्ञापित करती है डॉ ममता सैनी जी का जो
संस्थापिका अंतरराष्ट्रीय काव्य प्रेमी मंच तंज़ानिया से जी का जिनके मार्गदर्शन पे डॉ सुमन सोनी आज गोल्डेन बुक वर्ल्ड ऑफ रिकॉर्ड यहां तक का सफर तय कर पाई ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button