NationalNewsPatna

केंद्रीय राज्यमंत्री अश्विनी चौबे ने साधु संतों व त्रासदी के पीड़ितों के परिजनों के साथ दिल्ली स्थित अपने आवास पर प्रधानमंत्री का उद्बोधन सुने। केदारनाथ धाम में श्री आदि शंकराचार्य के मूर्ति अनावरण पर यज्ञ व पूजन का आयोजन किया।

बिहार

प्रधानमंत्री जी के सतत प्रयास से केदारनाथ धाम की भव्यता पुनर्जीवित हुई : अश्विनी चौबे

  • त्रासदी की रात केदारनाथ धाम में उपस्थित थे। महाप्रलयंकारी त्रासदी के परिवार के साथ प्रत्यक्षभोगी थे श्री चौबे

5 नवम्बर 2021

केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन तथा उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने अपने दिल्ली स्थित आवास पर केदारनाथ त्रासदी के पीड़ित परिजनों एवं साधु संतों के संगति में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ से प्रसारित उद्बोधन को सपरिवार सुने। इस मौके पर उन्होंने कहा कि विशेष तौर पर मेरे लिए यह भावुक क्षण है। 2013 में आई केदारनाथ धाम में त्रासदी में सपरिवार प्रत्यक्ष भोगी रहा हूं। मेरे आंखों के सामने श्री आदि शंकराचार्य जी के समाधि स्थल को बाढ़ ने काफी क्षति पहुंचाई थी। मैं परिवार सहित जीवन मरण से कई दिनों तक वहां संघर्ष करता रहा। मेरे साथ उस दिन तीर्थ यात्रा पर गए आधे से अधिक मेरे परिजन एवं सहयोगी त्रासदी के शिकार हो गए थे। उस प्रलयंकारी त्रासदी याद आज भी मानस पटल पर जीवंत है। तत्कालीन केंद्र एवं राज्य की कांग्रेस सरकार का रवैया बेहद ही उदासीन था। केदारनाथ से लौटने के उपरांत मैंने जंतर मंतर पर धरना देकर वहां की वस्तु स्थिति को सामने रखा था। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनने के बाद केदारनाथ धाम का पुनः दिव्य-स्वरूप लौटा है। इसके लिए प्रधानमंत्री जी का हृदयतल की गहराइयों से आभार व्यक्त करता हूं। प्रधानमंत्री जी के सतत प्रयास से केदारनाथ धाम की भव्यता पुनर्जीवित हुई है। शुक्रवार को कई परियोजनाओं के शुभारंभ के इस शुभ अवसर पर दिल्ली स्थित आवास पर साधु-संतों की संगति में प्रधानमंत्री जी का आभार व्यक्त करने के लिए यज्ञ एवं पूजन का आयोजन किया। केंद्रीय राज्य मंत्री श्री चौबे ने कहा कि शुक्रवार को प्रधानमंत्री जी द्वारा शुरू किए गए परियोजनाओं से यहां आने वाले तीर्थ यात्रियों को काफी लाभ होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button