ArrahBhagalpurBiharDelhiGayaJehanabadMuzaffarpurNalandaNationalNewsPatnaPoliticsSiwan

कृषि कानूनों की वापसी को देश की जनता की जीत बता भाकपा-माले व ऐक्टू ने मुंह मीठा कर निकाला मार्च

भागलपुर बिहार

आंदोलन के दौरान शहीद हुए 700 किसानों के परिजनों को मुआवजा, किसानों पर हुए हजारों मुकदमे की वापसी आदि मुद्दे यथावत

20 नवम्बर 2021, भागलपुर

कॉरपोरेट परस्त – किसान विरोधी तीनों काले कृषि कानून के वापसी की घोषणा को देश की जनता का जीत बताते हुए आज भाकपा-माले व ऐक्टू ने मार्च निकाला। मार्च में * कृषि कानून तो झांकी है – चार लेबर कोड, बिजली बिल, एमएसपी, सीएए और यूएपीए बाकी है! * माफी का नाटक बन्द करो, निजीकरण – मुद्रीकरण व अडानी-अम्बानी का राज खत्म करो! * अभी तो यह अंगड़ाई है – आगे बड़ी लड़ाई है! आदि नारों को बुलंद करते हुए कार्यकर्ता तिलकामांझी चौक पहुंचे और उनके मूर्ति के समक्ष आन्दोलन को जारी रखने का संकल्प दोहराया। इसके पूर्व भाकपा-माले व ऐक्टू के कार्यकर्ता स्थानीय सुरखीकल यूनियन कार्यालय में इकट्ठा हुए। इस ऐतिहासिक जीत के मौके पर मिठाई खिला मुंह मीठा कर एक-दूसरे को बधाई दी और वहां से मार्च निकाला। कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे भाकपा-माले के नगर प्रभारी व ऐक्टू के राज्य सह जिला सचिव मुकेश मुक्त ने मौके पर कहा इस ऐतिहासिक जीत ने देश के संघर्षरत व्यापक जनसमुदाय को बड़ा हौसला दिया है। मजदूरों के गुलामी के चार लेबर कोड, सीएए व यूएपीए की वापसी और देश की सम्पदा बेचने पर रोक जैसे मुद्दे आज भी देश के लोकतांत्रिक व संघर्षशील जनमानस के सामने मौजूद हैं। इन सवालों पर लड़ाई को जीत तक ले जाने की चुनौती बरकरार है। उन्होंने कहा कि साल भर से जारी किसानों के ऐतिहासिक संघर्ष के सामने घमंडी तानाशाह मोदी को झुकना पड़ा है और तीनों काले कानूनों की वापसी की घोषणा करनी पड़ी है। संसद से विधिवत इसकी वापसी अभी बाकी है। यह किसान संघर्ष की एक बड़ी जीत है। लेकिन अभी भी न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानूनी दर्जा देने, बिजली बिल वापस लेने, इस दौरान आंदोलनकारी किसानों पर हुए हजारों मुकदमों की वापसी, 700 से ज्यादा शहीद किसानों के परिजनों को मुआवजा, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री की बर्खास्तगी आदि मुद्दे यथावत हैं। यही वजह है कि संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन समाप्ति की घोषणा नहीं की है। यह देश के लोकतंत्र पसंद जनता की जीत है। भाकपा-माले व ऐक्टू, देश और लोकतंत्र बचाने की लड़ाई में संघर्षरत जनता के साथ है। कार्यक्रम में भाकपा-माले के नगर सचिव सुरेश प्रसाद साह, ऐक्टू के राज्य सह जिला सचिव मुकेश मुक्त, संयुक्त सचिव अमर कुमार, जिला उपाध्यक्ष विष्णु कुमार मंडल व मनोज कृष्ण सहाय, चंचल पंडित, बुधनी देवी, अमित गुप्ता, राजेश कुमार दास, मो. चांद अली, इनोद पासवान, मो. सुदीन, जयंत मंडल, शैलेन्द्र कुमार सिंह आदि भाकपा-माले व ऐक्टू कार्यकर्ता शामिल हुए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button