akbarpurallahabadArrahbankaBhagalpurBiharCrimeDelhiEntertainmentfaizabadGayagodda jharkhandgondaJehanabadjharkhandkatiharkishanganjLife TVLifestyleLiteraturelucknowmadhehpuramotihariMuzaffarpurNalandananitalNationalNewsPatnaPoliticspurniaranchi jharkhandsitapurSiwanSportssultanpursupualtandautranchalUttar Pradeshvaranasiwest bengalyatyat thana

अंगिका भाषा को मातृभाषा के कोड दर्ज कराने के लिए कांग्रेस इंटक ने हस्ताक्षर अभियान चलाया

अंगिका भाषा को मातृभाषा के कोड दर्ज कराने के लिए कांग्रेस इंटक ने प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष ओम प्रकाश उपाध्याय के नेतृत्व में युवाओं को जागरूक कर सैंडिस कंपाउंड, लाजपत पार्क एवं चिल्ड्रन पार्क में चलाया हस्ताक्षर अभियान।


अगर मांगे नहीं सुनी तो, अंगवासी दु:खी और गुस्से में पटना मार्च भी करेंगे: ओम प्रकाश उपाध्याय


अंगिका भाषा के लिए कोड़ तय नहीं करने पर ऐतराज जताते अंग प्रदेश के हर वर्ग में नाराजगी है। इसे सूची में दर्ज को लेकर कांग्रेस इंटक के कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस इंटक बिहार के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष ओमप्रकाश उपाध्याय के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने भागलपुर के लाजपत पार्क एवं सैंडिस कंपाउंड के पार्कों में लोगों को आवाह्न करते हुए अंगिका भाषा के प्रति जागरूक कर युवाओं के बीच अंगिका भाषा के लिए कोड तय करने, दूसरी राजभाषा घोषित करने और अष्टम सूची में अंगिका को शामिल करने की मांग को लेकर सैकड़ों युवाओं के बीच हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। युवाओं ने हस्ताक्षर अभियान के दरम्यान कहा कि अंगिका के सम्मान के लिए संघर्ष करने वाले लोग रुकेंगे नहीं।वे संघर्ष की तैयारी में जुट गए हैं। सभी ने मामले पर केंद्र एवं राज्य सरकार को घेरने का ऐलान तक कर दिया है।हस्ताक्षर अभियान के दरम्यान लोगों को जागरूक करते हुए कांग्रेस इंटेक के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष ओम प्रकाश उपाध्याय ने कहा यह दानवीर कर्ण के अंग प्रदेश की धरती है।जनगणना कार्यालय में प्रकाशित 277मातृभाषाओं किस सूची कोड में अंगिका का स्थान नहीं देख कर हम सब आहत है।अफसोस है इसके बावजूद अंगिका की उपेक्षा की जा रही है। जो भी सुनता है कि अंगिका के लिए कोई कोड तय नहीं किया गया। वह हैरान हो जाता है।ओम प्रकाश उपाध्याय ने कहा कि भारतीय जनगणना आयुक्त की मातृभाषाओं की सूची में अंगिका के लिए कोड का उल्लेख करवाएं, ताकि अंग महाजनपद के पांच करोड़वासी जनगणना के मौके पर स्वतंत्र रूप से अपनी मातृभाषा अंगिका के कोड का प्रयोग कर सकें। अपनी मातृभाषा के प्रति प्रेमी मन दुखी होता जा रहा है।
हस्ताक्षर अभियान में महासचिव मंटू यादव, सचिव मनीष कुमार, डॉआरिफ आजाद,डॉ विश्वजीत कुमार, शाहबाज खान,गुलशन कुमार, अनवर आलम, सिकंदर चौधरी, विवेक कुमार, सनी कुमार, कामेश्वर मंडल, मुनेश्वर कुमार, जगदीश झा, अभिषेक कुमार दर्जनों कार्यकर्ताओं मौजूद थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button