akbarpurallahabadArrahbankaBhagalpurBiharCrimeDelhiEntertainmentfaizabadGayagodda jharkhandgondaJehanabadjharkhandkatiharkishanganjLife TVLifestyleLiteraturelucknowmadhehpuramotihariMuzaffarpurNalandananitalNationalNewsPatnaPoliticspurniaranchi jharkhandsitapurSiwanSportssultanpursupualtandautranchalUttar Pradeshvaranasiwest bengalyatyat thana

अंगिका भाषा के हक अधिकारी एवं सम्मान के लिए मजदूरों के संग सड़कों पर उतर धरना दिया कांग्रेस इंटक के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष ओम प्रकाश उपाध्याय

अंगिका भाषा कोड के अधिकार को लेकर मजदूर कांग्रेस के नेतृत्व में सड़कों पर उतरे मजदूर।


केंद्र व राज्य सरकार अंगिका भाषा के साथ अंग्रेजों की तरह बर्ताव न करें: कांग्रेस इंटक


अंगिका को समुचित अधिकार और सम्मान की मांगे कोई भीख नहीं बल्कि यह अंग के अस्तित्व और अस्मिता की खातिर सच्ची पुकार है: ओम प्रकाश उपाध्याय


साहित्य जगत के चर्चित भाषा अंगिका को मातृभाषा के कोड के दर्जा के लिए मजदूर कांग्रेस इंटक के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष ओम प्रकाश उपाध्याय के नेतृत्व में सैकड़ों मजदूरों ने अपनी भाषा के अधिकार के लिए केंद्र व राज्य सरकार के उदासीन रवैया को को देखते हुए शुक्रवार को आदमपुर चौक पर विरोध में सड़कों पर उतरे।कार्यक्रम में उपस्थित लोगों ने सर्वप्रथम अंगिका भाषा के हक एवं अधिकार के लिए शपथ लिया तथा एक स्वर में कहा केंद्र और राज्य सरकार अंगिका भाषा के साथ अंग्रेजों की तरह बर्ताव न करें। हम मजदूर हैं मजबूर नहीं।अंग प्रदेश के अंग प्रेमियों से केंद्र व राज्य सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए कांग्रेस इंटक प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष ओम प्रकाश उपाध्याय ने कहा कि। सरकार के रवैया को देखकर ऐसा लगता है कि आश्वासनों के संदूक में अंगिका को कैद करनेकी एक बड़ी साजिश हो रही है, जो उचित नहीं है। अंगिका को समुचित अधिकार और सम्मान की मांग है कोई भीख नहीं बल्कि यह अंग की अस्तित्व और स्मिता की खातिर सच्ची पुकार है। केंद्र व राज्य सरकार बिहार झारखंडद के 21 से अधिक जिलों में रह रहे लगभग 6 करोड अंगिका भाषा क्योंकि अंगिका को आश्वासनो के बलबूते छलने का काम तेजी से किया जा रहा है। । सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह लोग भाषा अंगिका की हक मारी बंद कर शीघ्रता से इसे भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करें अधिवक्ता शाहबाज खान ने कहा सरकार अंग भाषियों की सहनशीलता को कायरता समझना अब बंद करें। शिक्षाविद डॉक्टर आरिफ आजाद ने कहा अंगिका में प्रचुर साहित्य का सृजन हुआ है और आज भी हो रहा है। कार्यक्रम में सरकार के उदासीन रवैया को देखते हुए सभी ने चरणबद्ध आंदोलन करने की हामी भरी।कार्यक्रम का संचालन अधिवक्ता शाहबाज खान की।
मौके पर महासचिव मंटू यादव,अधिवक्ता शाहबाज खान, डॉआरिफ आजाद,डॉ विश्वजीत कुमार, रामविलास पासवान, मजदूर संगठन के अशोक पासी, रामखेलावन सिंह, विवेक कुमार, कामेश्वर मंडल, पंकज चौधरी, सिकंदर चौधरी, दिलीप कुमार, किशोरी जी,रविंद्रनाथ यादव, अनवर आलम, जगदीश झा, अभिषेक कुमार, मुकुंद कुमार सिन्हा आदि सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

कार्यक्रम का आयोजन आदमपुर चौक पर किया गया

बिहार

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button