BhagalpurPatna

चुनावी रंजिश में पूर्व मुखिया को रिश्तेदार ने ही घर के आगे गोली मार दिया

बांका अमरपुर

बाका अमरपुर प्रखंड क्षेत्र के कुशमाहा पंचायत के निर्वतमान मुखिया मुन्नी देवी को पारिवारिक एवं चुनावी रंजिश में उसके रिश्तेदार ने ही घर के आगे गोली मार दिया । मुन्नी देवी को गोली पेट में लगने से वह वहीं जमीन पर गिर पड़ी । स्वजनों ने जख्मी को इलाज के लिए रेफरल अस्पताल लाया । जहां चिकित्सक ने गंभीर स्थिति को देखते हुए प्राथमिक उपचार कर बेहतर इलाज के लिए भागलपुर रेफर कर दिया । गोली मारने वाला निवर्तमान मुखिया मुन्नी देवी की ननद का पुत्र उपेंद्र उर्फ ओपी मंडल है । जो मूलरूप से कजरा गांव का है । लेकिन पिछले एक दशक से बिदुआ में ही घर बनाकर रह रहा था । निर्वतमान मुखिया के पुत्र देवराज मंडल ने बताया कि उसकी मां घर के आगे खड़ी थी । इसी दौरान उपेंद्र उर्फ ओपी मंडल देशी कट्टा लहराते हुए आया । जबतक हमलोग कुछ समझ पाते उसकी मां के पेट में गोली मारकर गांव के दक्षिण की ओर भाग गया । बतातें चलें कि तीन वर्ष पूर्व निर्वतमान मुखिया के पति नवल किशोर चौहान का कर दिया था । मुखिया पति अपने पुत्र के साथ एक शादी समारोह में भाग लेने बाछनी गांव गया था । वहां से बाइक से लौटने के क्रम में बाछनी स्कूल के समीप पूर्व से घात लगाये अपराधियों ने तबाड़तोड़ गोलीबारी कर नवल किशोर चौहान का हत्या कर दिया था । लेकिन इस घटना में मुखिया पुत्र बाल-बाल बच गया था । मुखिया पति के हत्या में उपेंद्र उर्फ ओपी मंडल भी आरोपित है । जो फिलवक्त उक्त केस में फरार चल रहा है । कई ग्रामीणों ने बताया कि मुखिया पति के हत्या में उपेंद्र मंडल के अलावा बिदुआ उत्तरी टोला के उसके रिश्तेदार सीताराम मंडल एवं उसका तीन पुत्र समेत एक दर्जन आरोपित है । जो फिलवक्त जेल में है । पिछले पंचवर्षीय पंचायत चुनाव में नवल किशोर चौहान ने सीताराम मंडल के सहयोग से ही पत्नी को मुखिया बनाया था । लेकिन पत्नी के मुखिया बनने के बाद नवल किशोर चौहान ने सीताराम मंडल एवं उसके पुत्र को दरकिनार कर दिया । जो सीताराम मंडल एवं उसके पुत्र को नागावार गुजरा । यहीं अनदेखी नवल के हत्या का कारण बना । चुंकि नवल किशोर चौहान एवं सीताराम मंडल रिश्तेदार होने के कारण नवल हत्याकांड में समझौते तक बात पहुंची । जिसमें समझौते में तय हुआ कि इस पंचायत चुनाव में सभी एकबार मिलजुल कर मुन्नी देवी को मुखिया बनाने में सहयोग करना है । तब नवल हत्या मामले केस में समझौता कर लिया जायेगा । समझौते के अनुसार मुन्नी देवी को सीताराम मंडल के परिवार ने मुखिया चुनाव में भरपूर सहयोग किया । लेकिन अंततः मुन्नी देवी चुनाव हार गई । मुन्नी देवी का सीताराम मंडल से समझौता का उपेंद्र उर्फ ओपी मंडल विरोध कर रहा था । लेकिन मुन्नी देवी ने उपेंद्र के विरोध कर सीताराम मंडल से समझौता करने पर अड़ी रही । यहीं कारण है कि उपेंद्र उर्फ ओपी मंडल ने गोली मारकर हत्या करने का प्रयास किया । घटना की सूचना पुलिस घटनास्थल पर पहुंच कर छानबीन कर रही है । थानाध्यक्ष मोहम्मद सफदर अली ने बताया कि स्वजनों के बयान पर केस दर्ज किया जा रहा है । शीघ्र ही आरोपित को गिरफ्तार कर लिया जायेगा !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button