Bhagalpur

आज 3 नवंबर 2021 को पीस सेंटर , परिधि द्वारा दिवाली मिलन का कार्यक्रम “अमन के दीप ” नाम से किया गया । कार्यक्रम लाजपत पार्क के मुख्य द्वार पर आयोजित था ।

भागलपुर बिहार

पीस सेंटर परिधि के समन्वयक संस्कृतिकर्मी राहुल ने कहा कि कोविड के कारण पिछले दो वर्षों से हम घरों में बंद हो गए थे । सारे हर्ष उल्लास पर तालाबंदी थी । एक बार फिर हम दीपावली की खुशियां बांटने और अमन चैन सुख शांति की कामना करने सामुहिक रूप से इकट्ठे हुए हैं । परिधि के निदेशक उदय ने दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि दीवाली सांस्कृतिक  उत्सव है धर्म परंपरा और आख्यान से इसे बाद में जोड़ा गया है । आज भी इस इलाके में दिवाली को सुकरतिया कहा जाता है । प्रकाश की उपासना और अंधरे को खत्म करने के लिए प्रकाश करना प्रतीकात्मक है जो दुनियां के हर हिस्से में है । वक्ताओं ने इस अवसर पर एक दूसरे को मुबारकवाद देते हुए कहा कि तेल की मंहगाई से भी लोगों का उत्साह कम नहीं हुआ है । दिवाली के अवसर पर हम सुख समृद्धि और सुख की कामना करते हैं । सुख समृद्धि देश में अमन चैन और भाईचारे के बिना संभव नहीं है । इसलिए हम अमन के दीप जला रहे हैं ।  भारत में ही विभिन्न सांस्कृतिक परम्पराओं  में दीप जलाने या प्रकाश करने की परंपरा है । प्रकाश का त्योहार विविधता का नमूना है । हिन्दू मुसलमान ,ईसाई , सिख आदिवासी सभी प्रकाश पर्व किस न किसी रूप में मनाते हैं ।  अपने पुरखों और सम्मानितों की याद में दीप और मोमबत्ती जलाते हैं । इसलिए यह त्यौहार हिन्दू मुसलमान सिख ईसाई की दूरी मिटाने का त्योहार है , अमन और सौहार्द का त्योहार है । इस अवसर पर एकराम हुसैन साद, कपिलदेव कृपाल और सच्चिदानंद किरण ने दीपावली पर अपनी रचना सुनाई । अंत में मो हाजी सत्तर की अगुवाई में सभी ने मिलकर अमन के दीप जलाए। कार्यक्रम में श्री रामशरण, डॉ योगेंद्र, श्रीमती छाया पांडे, श्रीमती अलका सिंह, मो बाकिर हुसैन,चंचला कुमारी, शारदा श्रीवास्तव, मो हाजी सत्तार, नदीम खान, शोभा श्रीवास्तव, जयंत जलद, एकराम हुसैन साद, मनोज कुमार, एनुल होदा, डॉ हबीब मुर्शीद खान, मृदुला सिंह, डॉ श्रीकांत मंडल, एम एस अनीस आदि ने अपनी बात रखते हुए सभी को दीवाली की मुबारकबाद दी ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button